Announcements

Sexuality, Gender and Rights Institute - Hindi

December 15 - 20, 2019

New Delhi

 

Last Date to apply: October 18, 2019

Organised by CREA, New Delhi, the Sexuality, Gender and Rights Institute (SGRI) is a week long, residential Institute, conducted in Hindi.

The fourteenth in the series, SGRI – Hindi is designed for the conceptual study of sexuality and its application to programme interventions. The Institute examines the links between sexuality, rights, gender and health, and their interface with socio-cultural and legal issues. Participants critically analyse policy, research, and programme interventions using a rights-based approach.

 

About some of our regular faculty members from the previous Institutes

Pramada Menon - Pramada Menon is a queer feminist activist. She is working on issues of gender, sexuality and women's human rights. She is the cofounder of CREA. Currently she works as an independent consultant, makes documentary films and is also a stand-up performance artist.

Shalini Singh – Shalini Singh is a feminist activists and lawyer. She has been working in the field of women issues for the last 23 years. At CREA in past 15 years, Shalini has been designing and managing all Hindi training programs and institutes, which includes the annual Basic training on Gender and Sexuality, Feminist Leadership Institute and the Sexuality and Gender Rights Institute in Hindi. She also works on capacity building of the network of women's organizations, imparting training on feminist leadership, women violence, gender, sexuality and law related to rights. She also leads the community-based program of action 'Meri Panchayat Meri Shakti'. Apart from all these, the work related to writing, translation and publication of all Hindi publications and training manuals is also under her responsibility.

Dipta Bhog - Dipta Bhog is the founder member of Nirantar organisation. She has worked as a journalist and activist for women's rights and women literacy issues. She has over two decades of work experience in adult and girl education and rural journalism. She has worked in designing the programs, its implementation and influenced policy making. She has trained women activists, teachers, students, researchers, government officials and master trainers at the national and South Asia levels on the issue of gender and education. She has intensively studied school books from a feminist perspective and has also worked on state and national level writing. On the subject of gender in education, she was associated with the committee to form the National Curriculum Framework of 2008. Recently she conducted a study on the subject of women leadership in non-government organizations working in rural areas. She contributed a lot in starting Khabar Lahariya in 2002 and is also involved in training of women journalists in rural areas.

Chayanika Shah - Chayanika Shah is a queer feminist activist, conducts researches and teaches as well. She has written a lot on the politics of population control, reproductive technology, feminism, feminist views on science and sexuality and gender. Chayanika has been an active member of the violence against women forum, a voluntary, non-funded, autonomous women's group based in Mumbai for more than thirty years. She has been associated with another Bombay-based voluntary queer feminist group, Labia, for the past twenty years. Labia is a group of lesbian and bisexual women and trans individuals. Chayanika has a Doctorate in Physics and taught the subject at a college in Bombay for two decades.

Ratnaboli Ray - Ratnaboli Ray is the founder and managing trustee of Anjali, a Kolkata-based organization. Anjali works on a mental health whose purpose is to change the system of the service in the medical field. Anjali works on the development of services, study of policies and human rights on mental health in India. Ratnaboli is a psychologist and has been working as a health activist for more than 15 years. Ratnaboli was awarded the Ashoka Fellowship in the year 2000 for Anjali's work.

Dipika Srivastava - Dipika has done Post Graduate Diploma in Rural Development and Management from the Institute of Rural Technology and Engineering, Allahabad. She has been working in the field of sexual and reproductive health and rights for more than ten years. She has a keen interest in training on issues of reproductive and sexual health. As the Program Coordinator of Tarshi, she works conducting trainings, development of Hindi IEC material, collaboration and networking at national and international levels.

 

Organiser

Founded in 2000, CREA is a feminist human rights organisation based in New Delhi, India. It is one of the few international women's rights organisations based in the global South, led by Southern feminists, which works at the grassroots, national, regional, and international levels. Together with partners from a diverse range of human rights movements and networks, CREA works to advance the rights of women and girls, and the sexual and reproductive freedoms of all people. CREA advocates for positive social change through national and international fora, and provides training and learning opportunities to global activists and leaders through its Institutes.

Participants and Selection Process

All those who consider themselves a woman can apply for the training. Around 25-30 participants will be selected from all over India, based on their application forms and their ability to demonstrate how they would apply the lessons of the Institute to the work they do. Individuals working on issues of sexuality, LGBT rights, sexual rights, sex workers rights, HIV/AIDS, violence against women, health, and/or gender are eligible to apply.

Participants are required to stay at the training venue for the whole duration of the course. Proficiency in reading and writing in Hindi is essential.

Cost of Participation

There is no course fee. CREA will make arrangements for accommodation and meals during the duration of the Institute. For stays - participants will be given rooms on Twin-sharing basis. Return tickets (only 2nd AC train tickets) will be reimbursed by CREA.

Venue and Dates

The Sexuality, Gender, and Rights Institute will be held in New Delhi, December 15 - 20, 2019. Participants are expected to arrive by 14th evening and leave on 20th after 5.00 pm.

N.B.

The application form should reach us on or before 18 October 2019. Applications will not be accepted after the due date. Confirmation will be sent to ONLY selected candidates by October 25, 2019.  

Note: The process of selection will begin with the application of participants. You are requested to send the filled-in application form as early as possible.

Click here to download the application form.

For PDF version of the application form, Click here

(Note: We DO NOT have the English version of the form)

Send your applications to sgrihindi@creaworld.org

Or by post to CREA office:

7, Jangpura B, (2nd Floor), Mathura Road, New Delhi - 110014, India

Phone: +91-11-24377707/24377700

Or

by fax to: +91-11-24377708

Please write 'Application Form' in the Subject line of the email or on the envelope, if sending by post.

 

 

CREA  thanks  Oak Foundation, Medicus Mundi Gipuzkoa and American Jewish World Services for their support.

 

आवेदन की अंतिम तिथि: 18 अक्टूबर 2019

'यौनिकता, जेंडर एवं अधिकार - एक अध्ययन' क्रिया द्वारा संचालित, एक सप्ताह का आवासीय अध्ययन कार्यक्रम है। यह 15 - 20 दिसम्बर 2019 को  नई दिल्ली में संचालित  किया जा रहा है |

यह प्रशिक्षण, इस श्रृंखला की  चौदहवीं कड़ी है |  इस कार्यक्रम में समुदाय आधारित संस्थाओं में कार्यरत महिलाओं को यौनिकता, अधिकार, जेंडर और प्रजनन स्वास्थ्य के वैचारिक सिद्धांतों से अवगत करवाया जाता है एवं इनके सांस्कृतिक, सामाजिक और कानूनी मामलों के बीच के जुड़ाव, विश्लेषण और परस्पर सम्बन्ध के बारे में जानकारी दी जाती है। इस कार्यक्रम में यौनिकता, जेंडर एवं अधिकार से सम्बंधित हिंदी संसाधन सामग्री भी उपलब्ध होगी |

 

पिछले आवासीय अध्ययन कार्यक्रम में लगातार  जुड़े  कुछ प्रशिक्षक  बारें में

शालिनी  सिंह - महिला मुद्दों के क्षेत्र में गत 23 वर्षों से कार्य कर रही हैं एवं पिछले 15 साल से वे क्रिया के साथ कार्य करते हुए सभी हिंदी प्रशिक्षणों को संचालित करती हैं | क्रिया में शालिनी महिला संस्थाओं के नेटवर्क के क्षमता वृद्धि का कार्य करते हुए, नारीवादी नेतृत्व, महिला हिंसा, जेंडर, यौनिकता और अधिकार से जुड़े कानून पर प्रशिक्षण देने के साथ वह क्रिया के समुदाय आधारित कार्यक्रम 'मेरी पंचायत मेरी शक्ति' का भी नेतृत्व करती है । शालिनी हिंदी में महिला हिंसा, जेंडर, यौनिकता और अधिकार के मुद्दे पर लिखती है। सामlजिक विज्ञान की शैक्षिक पृष्ठभूमि के साथ शालिनी एक वकील और प्रशिक्षित काऊंसलर है।

प्रमदा मेनन - प्रमदा मेनन एक क्वीअर नारीवादी एक्टिविस्ट है । वह जेंडर, यौनिकता और महिलाओ के मानव अधिकार के मुद्दों पर काम कर रही है । यह क्रिया की सहसंस्थापक हैं । फिलहाल स्वतंत्र सलहाकार के रूप में कार्य करती हैं, डाक्यूमेंट्री फिल्म बनाती हैं और स्टैंड-अप  परफॉर्मन्स कलाकार भी हैं ।

दीप्ता  भोग – दीप्ता भोग  निरंतर संसथान की फाउंडर मेम्बर  है | इन्होंने एक  पत्रकार और महिला अधिकार  के एक्टिविस्ट के रूप में कार्य किया है |  महिलासाक्षरता  मुद्दे, वयस्क और बालिका शिक्षा और ग्रामीण पत्रकारिता को लेकर उनके पास दो दशकों  से ज्यादा का कार्य अनुभव है ।  उन्होंने इस क्षेत्र में प्रोग्राम बनाने, लागू करने और पालिसी व प्रभाव के स्तर पर कार्य किया है | इन्होंने महिलाएं एक्टिविस्ट, शिक्षक, विद्यार्थी, शोधकर्ता, सरकारी अधिकारी और मास्टर  ट्रेनर्स सभी के लिए राष्ट्रीय और दक्षिण एशिया के स्तर पर जेंडर और शिक्षा के मुद्दे को लेकर  प्रशिक्षण दिया है | इन्होने गहनता से स्कूल की किताबो का नारीवादी नज़रिये से अध्ययन  किया है और राजकीय और राष्ट्रीय स्तर के लेखन  पर भी कार्य किया है | शिक्षा में जेंडर के विषय पर ये 2004 के राष्ट्रीय करिकुलम फ्रेमवर्क बनाने की कमिटी से जुडी थी | हाल ही में ग्रामीण क्षेत्रो में कायर्रत  गैरसरकारी संस्थाओ में महिला नेतृत्व के विषय पर स्टडी  किया ।"खबर लहरिया को 2002  में शुरू करने में ये बहुत सहायक रही और ग्रामीण क्षेत्र के महिला पत्रकारों के प्रशिक्षण में भी जुड़ी हुई है | 

चयनिका शाह - चयनिका शाह एक क्वीयर  नारवादी एक्टिविस्ट हैं, रिसर्च करती हैं और पढ़ाती हैं। इन्होने जनसंख्या नियंत्रण की राजनीति, प्रजनन तकनीक, कौमवाद, विज्ञान पर नारीवादी विचार और यौनिकता और जेंडर पर काफी काम किया है और लिखा है । चयनिका पिछले तीस से भी ज़्यादा सालो से बॉम्बे में स्थित एक स्वैच्छिक, धन ना लेने वाली, स्वायत्त महिला समूह, नारी अत्याचारी विरोधी मंच की सक्रीय सदस्य रही हैं। यह एक अन्य बॉम्बे स्थित स्वैतच्छिक क्वीयर नारीवादी समूह लेबिया  के साथ पिछले बीस सालो से जुड़ी है । लेबिया, लेस्बियन और  बायसेक्सुअल औरतों और ट्रांस व्यक्तियों का समूह है। चयनिका ने भौतिक    विज्ञान में डाक्टरेट किया है और दो दशकों  तक बॉम्बे के एक कॉलेज में भौतिक विज्ञान पढ़ाया है।

रत्नाबली रे - रत्नाबली  रे कोलकता स्थित संस्था अंजली  की संस्थापक और मैनेजिंग ट्रस्टी हैं । अंजली  मानसिक  स्वास्थ्य  पर कार्य करती है जिसका उदेश्य सेवा व् चिकित्सा क्षेत्र के प्रणाली में बदलाव लाना है । अंजली भारत में मानसिक स्वास्थ्य पर सेवाओं के विकास, नीतियों के अध्ययन और मानव अधिकार पर कार्य करती है । रतनबोली एक रोग विशेषज्ञ मनोवैज्ञानिक है और पिछले 15 वर्षो से स्वास्थ्य सक्रियतावादी के रूप में काम कर रहीं है । सन 2000 में अंजली के काम के लिए रत्नाबली  को अशोका फ़ेलोशिप से पुरस्कृत किया गया था ।

दीपिका श्रीवास्तव - दीपिका ने  इंस्टिट्यूट ऑफ़ रूरल टेक्नोलॉजी एंड इंजीनियरिंग, इलाहबाद से रूरल डेवलपमेंट और मैनेजमेंट में पोस्ट ग्रेजुएट डिप्लोमा किया है। दीपिका दस साल से भी ज़्यादा से यौन एवं प्रजनन स्वास्थ्य और अधिकार के क्षेत्र में कार्य कर रहीं है । इन्हे प्रजनन और यौनिक स्वास्थ्य के मुद्दों पर प्रशिक्षण करने में गहन रुचि है । तारशी के प्रोग्राम कोऑर्डिनेटर के रुप में वे प्रशिक्षण, हिंदी आई. ई. सी. सामग्री के विकास में सहयोग, नेटवर्किंग और राष्ट्रिय एवं अंतराष्ट्रीय स्तर पर तारशी का प्रतिनिधित्व करतीं हैं ।

 

आयोजक

वर्ष 2000 में स्थापित, क्रिया नई दिल्ली में स्थित एक नारीवादी मानव अधिकार संस्था है। यह एक अंतर्राष्ट्रीय महिला अधिकार संस्था है, जो समुदाय, राष्ट्रीय, क्षेत्रीय और अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर काम करती है। मानव अधिकार आन्दोलनों और समूह के विभिन्न भागीदारों के साथ मिलकर क्रिया महिलाओं और लड़कियों के अधिकारों को आगे बढ़ाने और सभी लोगों की यौनिक और प्रजनन स्वास्थ्य व अधिकारो के मुद्दों पर कार्य करती है। क्रिया राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय मंचों पर सकारात्मक सामाजिक बदलाव के लिए पैरवी करती है और कोशिश करती है की एक्टिविस्ट्स और पैरवीकारों को ट्रेनिंग और सीखने के कई तरह के मौके मिले |

प्रतिभागी और चुनाव

वह सभी व्यक्ति जो खुद को महिला मानते हैं और  सामाजिक बदलाव के मुद्दों पर कम से कम 2 साल से कार्य कर रहे  हैं, इस प्रशिक्षण के लिए आवेदन कर सकते हैं। सभी सत्र और  प्रशिक्षण से जुड़े अध्ययन के लिए लेख हिंदी में होंगे | इस प्रशिक्षण के दौरान भी  व्यक्तिगत या समूह में पढ़ने की आवश्यकता हो सकती है ।अतः सभी प्रतिभागियों को हिंदी में पढना और लिखना आना आवश्यक है |

क्रिया आपसे आशा करती है की जल्द से जल्द अपने आवेदन पत्र हमें भेजें | आवेदन पत्र और कार्य अनुभव के आधार पर 25-30 प्रतिभागी चुने जायेंगे। सभी प्रतिभागियों को पूरे कार्यक्रम के दौरान कार्यक्रम स्थल पर ही रहना होगा। केवल चुने गए प्रतिभागियों को 25 अक्टूबर  2019 तक चयन की सूचना भेजी जाएगी।

 

प्रशिक्षण शुल्क

यह प्रशिक्षण निःशुल्क है | क्रिया प्रतिभागियों  के रहने व खाने का प्रबंध करेगी | प्रत्येक कमरे में दो प्रतिभागियों के रहने की व्यवस्था की जाएगी | आने जाने का टिकट का भुगतान भी क्रिया द्वारा किया जायेगा |

 

तिथि और स्थान

यौनिकता , जेंडर एवं अधिकार - एक अध्ययन पर यह कार्यक्रम 15 से 20 दिसम्बर 2019 तक नई दिल्ली में संचालित की जाएगी | प्रतिभागियों से उम्मीद की जाएगी की वह प्रशिक्षण स्थान पर 14 दिसम्बर की शाम तक पहुच जाए | वह 20 दिसम्बर को शाम 5 बजे के बाद वापस जा सकते है |

 

आवेदन

आवेदन पत्र हमें  18 अक्टूबर 2019  तक या उससे पहले पहुँच जाने चाहिए | निर्धारित तिथि के बाद कोई भी आवेदन पत्र स्वीकार नहीं किये जायेंगे | केवल चुने हुए प्रतिभागियों को चुनाव की सूचना  25 अक्टूबर , 2019 तक भेजी जायेगी | 

 

विशेष: चयन की प्रक्रिया, प्रतिभागियों के मिल रहे आवेदनों के साथ ही शुरू हो जायेगी । आपसे अनुरोध है की जल्द से जल्द प्रशिक्षण के लिए आवेदन पत्र भेजें ।

आवेदन पत्र  डाउनलोड करने के लिये यहाँ क्लिक करें  

आवेदन पत्र के पीडीएफ संस्करण के लिए, यहां क्लिक करें

( नोट: हमारे पास फ़ॉर्म का अंग्रेज़ी संस्करण नहीं है )

कृपया अपने आवेदन पत्र को  sgrihindi@creaworld.org  पर ई-मेल करें 

या

इस पते पर पोस्ट करें :

क्रिया, 7 मथुरा रोड, जंगपुरा-बी, नई दिल्ली 110014,

फोन: +91-11-24377707/24377700

या

इस नंबर पर फैक्स करें: +91-11-24377708

ईमेल करने पर सब्जेक्ट में 'Application/आवेदन पत्र' अवश्य लिखें और पोस्ट या कूरियर भेजने पर भी लिफाफे पर 'Application/आवेदन पत्र' लिखें

 

क्रिया सहयोग के लिए ओक फाउंडेशन, मेडिकस मुंडी गिपूजकोआ और अमेरिकन ज्यूइश वर्ल्ड सर्विसेज का धन्यवाद करती है ।